अटल टनल ताजा कर गई भरमौर का दर्द, होली में ब्रेकफास्ट, कागड़ा में लंच का सपना अधूरा

चमन ठाकुर

अटल टनल रोहतांग का लोकार्पण के साथ ही बेशक कुल्लू से लाहुल के बीच दूरियां कम हो गई हों, लेकिन कांगड़ा से चंबा की दूरियों को कम होने का हजारों की आबादी का सपना अभी भी अधूरा ही है। शनिवार को एक तरफ लाहुलवासियों के इस ऐतिहासिक दिन के जश्न में पूरा देश झूम उठा, तो दूसरी तरफ कबायली क्षेत्र भरमौर की जनता का दर्द भी ताजा हो गया। लिहाजा भरमौर क्षेत्र की जनता होली-उतराला सड़क निर्माण की मांग को लेकर फिर मुखर हो गया है। उल्लेखनीय है कि कांगड़ा से चंबा की दूरियों को कम करने के लिए सियासी दलों ने होली-उतराला टनल का सपना दशकों पहले दिखाया था। हर विधानसभा चुनाव में भरमौर विस क्षेत्र में इस मुद्दे पर सियासी दलों ने खूब रोटियां सेंकी। वहीं पिछली कांग्रेस सरकार ने आर्थिक रूप से होली-उतराला सुरंग निर्माण व्यवहारिक न होने का हवाला देकर यह सपना भी टूट गया, लेकिन कांग्रेस सरकार ने होली-चामुंडा टनल बनाने का ऐलान कर डाला।

लिहाजा लंबे समय तक कांगड़ा से चंबा की दूरियों को कम करने के लिए टनल निर्माण पर सियासी दलों के साथ-साथ क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वालों ने भी इस टनल निर्माण को लेकर चुप्पी साध रखी। राज्य में सत्ता परिवर्तन होने के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने बैजनाथ में अपनी पहली जनसभा में ही प्राथमिकता के आधार पर होली-उतराला सड़क का निर्माण करने का ऐलान किया और बैजनाथ तथा भरमौर के विधायक को इस प्रोजेक्ट को विधायक प्राथमिकता में शामिल करने की बात कही थी। इसके बाद नाबार्ड के तहत इस सड़क का निर्माण करने की बातें होती रहीं। जमीनी हकीकत यह है कि इस सड़क के निर्माण को लेकर भी सरकार ने अभी तक गंभीरता नहीं दिखाई। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि जयराम सरकार के तीन वर्ष के कार्यकाल में सड़क निर्माण की औपचारिकताएं ही पूरी नहीं हो पाईं। लिहाजा फोरेस्ट क्लीयरेंस के लिए फाइल एक दफ्तर से दूसरे तक ही घूम रही है। वहीं लोक निर्माण के भरमौर स्थित अधिशाषी अभियंता राजीव महाजन का कहना है कि होली-उतराला सड़क निर्माण हेतु फोरेस्ट केस शिमला स्थित नोडल अधिकारी के समक्ष भेज दिया है। साथ ही विभाग ने इसकी डीपीआर भी तैयार कर आगामी कारवाई हेतु भेजी है। उनका कहना है कि विभाग की ओर से उपरोक्त तमाम औपचारिकताएं पूरी करने के बाद ही केस भेजा है। वहीं वन मंत्री राकेश पठानिया ने होली-उतराला सड़क निर्माण के बीच टनल भी प्रस्तावित होने की बात कही है। इसको लेकर जनता के जहन में भी सवाल उठ रहा है कि क्या सच में यहां टनल का भी निर्माण होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *